top important questions of history 2019 part 2

प्रश्न 11 “साँची के स्तूप के अवशेषों के संरक्षण में भोपाल कि बेगमो ने बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई |” उचित प्रमाण देकर इस कथन कि पुष्टि कीजिए |
उतर – साँची के स्तूप के अवशेषों के संरक्षण में भोपाल कि बेगमो का निम्नलिखित
योगदान रहा –
(1) पहले फ़्रांसीसियो ने और बाद में अंग्रेजो ने साँची के पूर्वी तोरण दावरा को अपने-अपने देश ले जाने कि कोशिश की | परंतु भोपाल की बेगमो ने उन्हें स्तूप कि प्लास्टर प्रतिक्रतियो से संतुष्ट कर दिया |
(2) शाहजहाँ बेगम और उनकी उत्तराधिकारी सुल्तानजहाँ बेगम ने इस प्राचीन स्थल के रेख-रखाव के लिए धन का अनुदान दिया |
(3) सुल्तानजहाँ बेगम ने वहां एक संग्राहलय तथा अतिशाला बनाने के लिए अनुदान दिया |
(4) जॉन मार्शल ने साँची पर लिखे अपने महत्वपूर्ण ग्रन्थ सुल्तानजहा को समर्पित किए |
(5) बेगमो दवारा समय पर लिए गये विवेकपूर्ण निर्णय ने साँची के स्तूप को उजड़ने से बच लिया |

प्रश्न 12 “18वी शताब्दी से बर्नियर के विवरणों ने यूरोपीय लेखको को प्रभावित किया |” इस कथन के समर्थन में तर्क दीजिए |
उतर – इसमें कोई संदेह नही है कि 18वी शताब्दी से बर्नियर के विवरणों ने यूरोपीय लेखको को प्रभावित किया | इस संबंध में निम्नलिखित तर्क दिए जा सकते है –
(1)मुगलकाल में सारी भूमि का स्वामी सम्राट था | लोगो का भूमि पर निजी स्वामित्व नही था | फलस्वरूप भूमि में सुधार लाने वाले वर्ग का अभाव था | उसके इस विचार ने फ्रांसीसी दाशर्निक रूसो को प्रभावित किया | उसने इस विचार का प्रयोग प्राचीन निरंकुशवाद के सिंद्धांत को विकसित करने में किया जिसके अनुसार एशिया में लोगो को गरीबी और दासता का स्थितियों में रखा जाता था |
(2) बर्नियर के विचार ने कार्ल माकर्स को भी प्रभावित किया | उसने इस विचार को एशियाई उत्पादन के सिंद्धांत का रूप दे दिया कि भारत तथा अन्य एशियाई देशो में उपनिवेशवाद से पहले अधिशेष का ग्रहण राज्य दवारा होता था इससे एक ऐसे समाज का उदय हुआ जो बड़ी संख्या में स्वायत तथा समतावादी ग्रामीण समुदायों से बना था |कार्ल मार्क्स के अनुसार यह एक निष्क्रिय प्रणाली मानी जाती थी |

प्रश्न 13 मुगलों के अभिजात वर्ग कि कोई पांच विशेषताए लिखिए |
उतर – अभिजात वर्ग से अभिप्राय मुग़ल अधिकारी के महत्वपूर्ण दल से है | इसकी मुख्य विशेषता निम्नलिखित था –
(1) इनकी भर्ती विभिन्न न्रजातीय समूहों तथा धार्मिक वर्गो से होती थी |
(2) इस बात का ध्यान रखा जाता था कि कोई भी समूह इतना बड़ा न हो जाए कि राज्य के लिए खतरा बन जाए |
(3) प्रत्येक अधिकार का पड़ अथवा मनसब निशिचत था |
(4) अभिजात सैनिक अभियानों में अपने सैनिको के साथ भाग लेते थे | वै प्रशासनिक कार्य भी करते थे |
(5) राज्य में ऊंचा स्तर होने का कारण अभिजात वर्ग काफी धनी तथा शक्तिशाली था | उसे समाज में बहुत अधिक प्रतिष्ठा प्राप्त था |

प्रश्न 14 असहयोग आंदोलन की ओर ले जाने वाली घटनाओ का वर्णन कीजिए |
उतर – असहयोग आंदोलन (1920-22) निम्नलिखित कारणों से चलाया गया –
(1) भारतीयों ने प्रथम महायुद्ध में अंग्रेजो को पूरा सहयोग दिया था | परंतु महायुद्ध कि समाप्ति पर अंग्रजो ने भारतीय जनता का खूब शोषण किया |
(2) प्रथम महायुद्ध के दोरान भारत में प्लेग आदि महामारिया फूट पड़ी | परंतु अंग्रेजी सरकार ने उसकी ओर कोई ध्यान न दिया |
(3) गाँधी जी ने प्रथम महायुद्ध में अंग्रजो कि सहायता करना का प्रचार इस आशा से किया था कि वै भारत को स्वराज्य प्रदान करेगे | परंतु युद्ध कि समाप्ति पर ब्रिटिश सरकार ने गाँधी जी की आशाओ पर पानी फेर दिया |
(4) 1919 ई० में ब्रिटिश सरकार ने रोलेट एक्ट पास कर दिया | इस काले कानून के कारण जनता में रोष फैल गया |
(5) रोलेट एक्ट के विरुद्ध प्रदशर्न के लिए अम्रतसर के जलियावाला बाग़ में एक विशाल जनसभा हुई | अंग्रेजो ने एकत्रित भीड़ पर गोलिया चलायी जिसमे सैकड़ो लोग मारे गये |
(6) सितंबर, 1920 ई० में कांग्रेस ने अपना अधिवेशंन कलकता (कोलकाता) में बुलाया | इस अधिवेशन में ‘असहयोग जा प्रस्ताव रखा गया जिसे बहुमत से पास कर दिया गया |

 

<< Previous Questions and Answer

Share this

COMMENTS

Leave a Comment